Chapter #9. Snake- Short Summary in English and Hindi for BSEB

Chapter #9. Snake- Short Summary in English and Hindi BSEB

अगर आप बिहार बोर्ड (BSEB) के Rainbow II की Summary को आसान शब्दों में समझना चाहते है तो आप सही जगह पर आए है यहाँ  मैं आपको परीक्षा के अनुसार शब्दों की limit के अनुसार summary को दिया हूँ जिसे आप नीचे हिंदी में भी समझ सकते है। वैसे आपको परीक्षा में केवल English में लिखना है हिंदी केवल समझने के लिए है। जल्दी ही Full Summary, Question Answer, Multiple Choice Question जल्द ही अपलोड किआ जाएगा। 

Board            Bihar Board, Patna

Class             12th (Second Year)
Stream         Science (I.Sc), Arts (I.A.) & Commerce (I.Com)   
Subject         English (100 Marks)  
Book              Rainbow-XII | Part- II  
Type              Short Summary of Poetry  
Chapter        Prose-9 | Snake
Words           162 Words  
Publisher     Neal Kashyap  
Price              Free of Cost  
Script            Mono Lingual | In English Only

'Snake' has been composed by D.H. Lawrence. In this poem, he described a snake. According to the poet, a snake came to water-trough to drink water. It was July and a very hot day. The poet was also thirsty, so he went there to take water. Suddenly he saw and stopped there. He waited there for some time. He began to enjoy the activities of the snake. The snake was yellow- brown cobra. It looked at him vaguely then began to sip water with straight mouth. It drank softly through its gums. After sometime, the poet thought of killing it because it was poisonous; but he did not decide to do it. After sometime, he hit it with a clumsy log. He thought that he was not cowardice and he did right. But after hearing the noises, he was perplexed. He thought that he did wrong. He should not hit it. So he regretted. It seemed to the poet like a king.

ऊपर के Content को मैंने नीचे हिंदी में आपके समझने के लिए लिखा है जिस से की आप आसन भाषा में Short Summary को समझ सकें और याद भी कर सके।

'सांप' डीएच लॉरेंस द्वारा रचित है। इस कविता में उन्होंने एक सांप का वर्णन किया है। कवि के अनुसार एक सर्प जल-कुंड में पानी पीने आया था। वह जुलाई था और बहुत गर्म दिन था। कवि को भी प्यास लगी थी, तो वह वहाँ पानी लेने गया। अचानक उसने देखा और वहीं रुक गया। वहां उन्होंने कुछ देर इंतजार किया। वह सांप की गतिविधियों का आनंद लेने लगा। सांप पीले-भूरे रंग का कोबरा था। उसने उसे अस्पष्ट रूप से देखा और फिर सीधे मुँह से पानी पीना शुरू कर दिया। यह अपने मसूढ़ों से धीरे से पिया। कुछ समय बाद कवि ने इसे मारने का विचार किया क्योंकि यह जहरीला था; लेकिन उसने ऐसा करने का फैसला नहीं किया। कुछ देर बाद उसने उसे एक अनाड़ी लॉग से मारा। उसने सोचा कि वह कायरता नहीं है और उसने सही किया। लेकिन शोर सुनकर वह हैरान रह गया। उसने सोचा कि उसने गलत किया है। उसे हिट नहीं करना चाहिए। तो उसे पछतावा हुआ। कवि को यह एक राजा की तरह लग रहा था।

I have taken full precaution to provide you the best content for your board examination so if you have any query or comment then please message me on my WhatsApp Number or my email. 

The Video Class for this short summary will be uploaded soon my YouTube Channel Neal Kashyap Live, Please Stay Tuned on my website for Further Notification and search Neal Kashyap Live on YouTube and Please do subscribe my channel for daily educational stuff for your board examination.

Post a Comment

0 Comments