Chapter #4. To Autumn- Short Summary in English and Hindi for BSEB

Chapter #4. To Autumn- Short Summary in  English and Hindi BSEB

अगर आप बिहार बोर्ड (BSEB) के Rainbow II की Summary को आसान शब्दों में समझना चाहते है तो आप सही जगह पर आए है यहाँ  मैं आपको परीक्षा के अनुसार शब्दों की limit के अनुसार summary को दिया हूँ जिसे आप नीचे हिंदी में भी समझ सकते है। वैसे आपको परीक्षा में केवल English में लिखना है हिंदी केवल समझने के लिए है। जल्दी ही Full Summary, Question Answer, Multiple Choice Question जल्द ही अपलोड किआ जाएगा। 

Board            Bihar Board, Patna

Class             12th (Second Year)
Stream         Science (I.Sc), Arts (I.A.) & Commerce (I.Com)   
Subject         English (100 Marks)  
Book             Rainbow-XII | Part- II  
Type             Short Summary of Poetry  
Chapter        Prose-4 | To Autumn
Words           181 Words  
Publisher     Neal Kashyap  
Price              Free of Cost  
Script            Mono Lingual | In English Only

'To Autumn' has been composed by John ketas. It is really a very beautiful poem. In this poem, the poet describes the beauty and pleasure of the autumn season. According to the poet, it is a very pleasant season. It is with mists and maturing sun. The trees and plants are with fruit and flowers. Greenery can be seen everywhere. They add beauty in Nature. The grain begins to ripen. Leaves and buds begin to grow in trees. In this season. We can feel neither too hot nor too cold. Wind keeps on blowing. It invites the summer and both make the fruit ready. Birds sing sweet songs and they fill the human-heart with their songs. People are very happy to see the crops, fruit, flower and beautiful scene of Nature. The poet describes the Vines, apple- tree and hazel etc. in this poem. He says that bees hover over flowers. He says that it is not second to spring. He describes swallows, Robin, Cricket etc. also in this poem. He says that really autumn presents a memorable picture of Nature.

ऊपर के Content को मैंने नीचे हिंदी में आपके समझने के लिए लिखा है जिस से की आप आसन भाषा में Short Summary को समझ सकें और याद भी कर सके।

'टू ऑटम' को जॉन केटस ने कंपोज किया है। वाकई बहुत ही खूबसूरत कविता है। इस कविता में कवि शरद ऋतु की सुंदरता और आनंद का वर्णन करता है। कवि के अनुसार यह बहुत ही सुखद ऋतु है। यह धुंध और परिपक्व सूरज के साथ है। पेड़-पौधे फल-फूल से लदे हैं। हर तरफ हरियाली देखी जा सकती है। वे प्रकृति में सुंदरता जोड़ते हैं। अनाज पकने लगता है। पेड़ों में पत्तियाँ और कलियाँ उगने लगती हैं। इस मौसम में। हम न तो ज्यादा गर्म और न ही ज्यादा ठंडा महसूस कर सकते हैं। हवा चलती रहती है। यह गर्मियों को आमंत्रित करता है और दोनों फल तैयार करते हैं। पक्षी मधुर गीत गाते हैं और वे अपने गीतों से मानव-हृदय को भर देते हैं। फसल, फल, फूल और प्रकृति के सुंदर दृश्य को देखकर लोग बहुत खुश होते हैं। कवि ने इस कविता में बेलों, सेब के पेड़ और हेज़ल आदि का वर्णन किया है। उनका कहना है कि मधुमक्खियां फूलों पर मंडराती हैं। उनका कहना है कि यह वसंत के बाद दूसरा नहीं है। उन्होंने इस कविता में निगल, रॉबिन, क्रिकेट आदि का भी वर्णन किया है। उनका कहना है कि वास्तव में शरद ऋतु प्रकृति की एक यादगार तस्वीर पेश करती है।

The Video Class for this short summary will be uploaded soon my YouTube Channel Neal Kashyap Live, Please Stay Tuned on my website for Further Notification and search Neal Kashyap Live on YouTube and Please do subscribe my channel for daily educational stuff for your board examination.

Post a Comment

0 Comments