Chapter #4. I Have a Dream- Short Summary BSEB

 I Have a Dream: Summary

अगर आप बिहार बोर्ड (BSEB) के Rainbow II की Summary को आसान शब्दों में समझना चाहते है तो आप सही जगह पर आए है यहाँ  मैं आपको परीक्षा के अनुसार शब्दों की limit के अनुसार summary को दिया हूँ जिसे आप नीचे हिंदी में भी समझ सकते है। वैसे आपको परीक्षा में केवल English में लिखना है हिंदी केवल समझने के लिए है। जल्दी ही Full Summary, Question Answer, Multiple Choice Question जल्द ही अपलोड किआ जाएगा। 

Board            Bihar Board, Patna
Class          12th (Second Year)
Stream      Science (I.Sc), Arts (I.A.) & Commerce (I.Com)   
Subject      English (100 Marks)  
Book          Rainbow-XII | Part- II  
Type          Short Summary of Prose  
Chapter      Prose-4 | I Have a Dream 
Words          208 Words  
Publisher  Neal Kashyap  
Price          Free of Cost  
Script          Mono Lingual | In English Only


'I have a dream' is a speech of Martin Luther King Jr. (This speech was delivered by him on the occasion of the Lincoln Memorial in Washington on 28 August 1963. In this speech, he says that a great American signed Emancipation Proclamation for the Negro community. It was a great light of the hope for the Negro slaves. But their condition has not changed till now. They have no freedom and they lead miserable life. They live under poverty, injustice, segregation and discrimination. They are completely cut-off from this society. He says that all people are equal and all are the children of God. So there should not be I consideration of caste, color etc. They should also get same facility, freedom, opportunity etc. Nobody should think that the Negro Community will be bloomed because it is his illusion. He wants to continue his struggle until this community gets equal citizenship and rights. According to him, the bank of justice for Negro people is bankrupt. He wants there should not be any difference between the black and white. They should walk together like brothers and sisters. Then all will sing the song of freedom everywhere. All will join hands together and thank God for being the same.

'आई हैव ए ड्रीम' मार्टिन लूथर किंग जूनियर का भाषण है (यह भाषण उनके द्वारा 28 अगस्त 1963 को वाशिंगटन में लिंकन मेमोरियल के अवसर पर दिया गया था। इस भाषण में वे कहते हैं कि एक महान अमेरिकी ने मुक्ति उद्घोषणा पर हस्ताक्षर किए थे। नीग्रो समुदाय। यह नीग्रो दासों के लिए आशा की एक बड़ी रोशनी थी। लेकिन उनकी स्थिति अब तक नहीं बदली है। उन्हें कोई स्वतंत्रता नहीं है और वे दयनीय जीवन जीते हैं। वे गरीबी, अन्याय, अलगाव और भेदभाव के तहत रहते हैं। वे पूरी तरह से हैं इस समाज से कट गया। उनका कहना है कि सभी लोग समान हैं और सभी भगवान की संतान हैं। इसलिए मुझे जाति, रंग आदि का विचार नहीं करना चाहिए। उन्हें भी समान सुविधा, स्वतंत्रता, अवसर आदि मिलना चाहिए। किसी को भी नहीं सोचना चाहिए कि नीग्रो समुदाय खिलेगा क्योंकि यह उसका भ्रम है। वह अपना संघर्ष तब तक जारी रखना चाहता है जब तक कि इस समुदाय को समान नागरिकता और अधिकार नहीं मिल जाता। उनके अनुसार, नीग्रो लोगों के लिए न्याय का बैंक दिवालिया है। वह चाहता है कि एक नहीं होना चाहिए y काले और सफेद के बीच अंतर। उन्हें भाइयों और बहनों की तरह एक साथ चलना चाहिए। तब सब जगह आजादी का गीत गाएंगे। सभी एक साथ हाथ मिलाएंगे और एक जैसे रहने के लिए भगवान का शुक्रिया अदा करेंगे।

I have taken full precaution to provide you the best content for your board examination so if you have any query or comment then please message me on my WhatsApp Number or my email. 


The Video Class for this short summary will be uploaded soon my YouTube Channel Neal Kashyap Live, Please Stay Tuned on my website for Further Notification and search Neal Kashyap Live on YouTube and Please do subscribe my channel for daily educational stuff for your board examination.

Post a Comment

0 Comments