Chapter #3. A Pinch of Snuff- Short Summary BSEB

 A Pinch of Snuff: Summary

अगर आप बिहार बोर्ड (BSEB) के Rainbow II की Summary को आसान शब्दों में समझना चाहते है तो आप सही जगह पर आए है यहाँ  मैं आपको परीक्षा के अनुसार शब्दों की limit के अनुसार summary को दिया हूँ जिसे आप नीचे हिंदी में भी समझ सकते है। वैसे आपको परीक्षा में केवल English में लिखना है हिंदी केवल समझने के लिए है। जल्दी ही Full Summary, Question Answer, Multiple Choice Question जल्द ही अपलोड किआ जाएगा। 

Board            Bihar Board, Patna
Class          12th (Second Year)
Stream      Science (I.Sc), Arts (I.A.) & Commerce (I.Com)   
Subject      English (100 Marks)  
Book          Rainbow-XII | Part- II  
Type          Short Summary of Prose  
Chapter      Prose-3 | A Pinch of Snuff
Words          229 Words  
Publisher  Neal Kashyap  
Price          Free of Cost  
Script          Mono Lingual | In English Only

'A Pinch of Snuff' is a short story written by Manohar Malgaonkar. It is an adventurous story full of comic relief. Nanukaka is the main character of the story. He is equipped with tricks to manage anyone, anywhere. Nanukaka has to see the welfare minister in Delhi. He comes to his sister's house in Delhi. He goes to the minister to see him. But to his misfortune the minister does not see him and calls him after three days. Nanukaka anyhow comes to know that Maharaja of Ninor is the close relative of the Welfare Minister. He takes a pinch of snuff and plays a trick. He tells his sister's son to hire a grand car and pretends to be his driver. He himself dressed like an astrologer and again reaches the residence of the Minister. In the visitor's book, he writes his false address showing himself as the hereditary astrologer of the Maharaja of Ninor. As soon as the Minister see the address he becomes eager to see the astrologer and goes to the residence of Nanukaka. Thus, we see that Nanukana sees the minister easily. The accuracy and the profound comedy of Malgaonkar's narrative has built up reader's excitement.

'ए पिंच ऑफ स्नफ' मनोहर मालगांवकर द्वारा लिखित एक लघु कहानी है। यह एक साहसिक कहानी है जो हास्य से भरपूर है। नानुकाका कहानी का मुख्य पात्र है। वह कहीं भी, किसी को भी प्रबंधित करने की तरकीबों से लैस है। नानुकाका को दिल्ली में कल्याण मंत्री से मिलना है। वह दिल्ली में अपनी बहन के घर आता है। वह मंत्री से मिलने जाते हैं। लेकिन दुर्भाग्य से मंत्री ने उसे नहीं देखा और तीन दिन बाद उसे फोन किया। ननुकाका को किसी तरह पता चलता है कि निनोर के महाराजा कल्याण मंत्री के करीबी रिश्तेदार हैं। वह एक चुटकी सूंघता है और एक चाल चलता है। वह अपनी बहन के बेटे को एक भव्य कार किराए पर लेने के लिए कहता है और उसका ड्राइवर होने का नाटक करता है। वह खुद एक ज्योतिषी की तरह कपड़े पहने और फिर से मंत्री के आवास पर पहुंचे। आगंतुक पुस्तिका में वह खुद को निनोर के महाराजा के वंशानुगत ज्योतिषी के रूप में दिखाते हुए अपना झूठा पता लिखता है। मंत्री का पता देखते ही वह ज्योतिषी से मिलने के लिए उत्सुक हो जाता है और ननुकाका के घर चला जाता है। इस प्रकार, हम देखते हैं कि ननुकाना मंत्री को आसानी से देख लेते हैं। मालगांवकर की कथा की सटीकता और गहन कॉमेडी ने पाठक के उत्साह को बढ़ा दिया है।

I have taken full precaution to provide you the best content for your board examination so if you have any query or comment then please message me on my WhatsApp Number or my email. 


The Video Class for this short summary will be uploaded soon my YouTube Channel Neal Kashyap Live, Please Stay Tuned on my website for Further Notification and search Neal Kashyap Live on YouTube and Please do subscribe my channel for daily educational stuff for your board examination.

Post a Comment

0 Comments